बिलासपुर, जिलाप्रशासननेशहरकी11 बस्तियोंके26 हजार522 परिवारोंकापट्टानिरस्तकरजमीननिगमकोदेदियाहै।करीब7 सालपहलेहीबिनाकिसीकोसूचनादिएप्रक्रियापूरीकरलेनेकीवजहसेप्रभावितपरिवारोंकोनतोन्यायालयसेराहतमिलरहीहैऔरनविरोधप्रदर्शनकाहीकोईनतीजानिकलरहाहै।नूतनचौक, अशोकनगर, डबरीपाराकेबादअबआधाशहरनिगमकीकार्रवाईकेदायरेमेंहै।

अविभाजितमध्यप्रदेशकेसमय1990 और1998 मेंप्रदेशसरकारनेझुग्गीबस्तियोंमेंरहनेवालोंकोबड़ेपैमानेपरजमीनकापट्टाबांटाथा।उससमयपट्टा10 सालकेलिएदिएगएथे।इसलिहाजसेइनपट्टोंकीअवधि2000 और2009 मेंसमाप्तहोचुकीहै।इसकेबादनतोलोगोंनेइसकानवीनीकरणकरानेपरध्यानदियाऔरनहीउन्हेंप्रशासनकीओरसेकोईसूचनादीगई।

छत्तीसगढ़राज्यबननेकेबादहीजैसेहीपट्टेकीअवधिसमाप्तहुईजिलाप्रशासनने11 बस्तियोंकापट्टानिरस्तकरउसजमीनकोनगरनिगमकोहस्तांतरितकरदियाहै।इसकेबदलेनिगमनेआंशिकराशिभीजिलाप्रशासनकेखातेमेंजमाकरादीहै।इसतरहअबइनबस्तियोंमेंरहनेवालोंकाजमीनपरअधिकारसमाप्तहोगयाहै।अबपूरीजमीननिगमकेनामपरदर्जहोगईहै।यहीकारणहैकिनिगमअपनीसुविधाकेअनुसारबस्तियोंकोखालीकरानेकेलिएतोड़फोड़काअभियानचलारहाहै।

इसीकेतहतनिगमनेनूतनचौकवअशोकनगरमेंतोड़फोड़करबस्तीखालीकराईहै।अबअगलाअभियानसाइंसकॉलेजकेसा

मनेडबरीपाराऔरजतियातालाबकेआसपासवालेइलाकेमेंचलनेवालाहै।डबरीपाराकेरहवासियोंकोनोटिसमिलचुकाहै।वहींजतियातालाबकेआसपासकिस्तोंमेंअभियानचलायाजारहाहै। विस्तारसे देखें